Explore Chemistry Now

chemexplorers

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in.एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी में संलग्न आवृत्तियों की सीमा रेडियो तरंगों के स्पेक्ट्रम में होती है, जो लगभग 60 मेगाहर्ट्ज से 1000 मेगाहर्ट्ज तक फैली होती है। यह तकनीक परमाणु कोर की चुंबकीय गुणधर्मों का अध्ययन करने के लिए महत्वपूर्ण है और रासायनिक संरचनाओं के विश्लेषण में उपयोगी है।

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी में संलग्न आवृत्तियों की विस्तृत व्याख्या चरण-दर-चरण:

  1. एनएमआर का परिचय:
    • एनएमआर (न्यूक्लियर मैग्नेटिक रेज़ोनेंस) स्पेक्ट्रोस्कोपी एक विश्लेषणात्मक तकनीक है जिसका उपयोग परमाणु कोर की चुंबकीय गुणधर्मों का अध्ययन करने के लिए किया जाता है।
  2. चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग:
    • एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी में, एक शक्तिशाली स्थिर चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग किया जाता है। यह चुंबकीय क्षेत्र परमाणु कोर को एक विशिष्ट ऊर्जा अवस्था में व्यवस्थित करता है।
  3. रेडियो तरंगों का प्रयोग:
    • जब परमाणु कोर एक चुंबकीय क्षेत्र में होता है, तो उसे रेडियो तरंगों के रूप में एक विशिष्ट आवृत्ति पर ऊर्जा प्रदान की जाती है।
  4. आवृत्तियों की सीमा:
    • एनएमआर में प्रयुक्त आवृत्तियाँ रेडियो तरंगों के स्पेक्ट्रम में होती हैं। यह आवृत्तियाँ लगभग 60 मेगाहर्ट्ज (MHz) से 1000 मेगाहर्ट्ज (MHz) के बीच होती हैं।
  5. रेज़ोनेंस की स्थिति:
    • जब सही आवृत्ति पर रेडियो तरंगें परमाणु कोर के साथ प्रतिध्वनित होती हैं, तो यह रेज़ोनेंस स्थिति कहलाती है। इस स्थिति में, परमाणु कोर ऊर्जा अवशोषित करता है और फिर इसे छोड़ता है।
  6. डेटा संग्रहण:
    • एनएमआर उपकरण इस ऊर्जा के अवशोषण और विमोचन को मापता है और इसे एक स्पेक्ट्रम के रूप में रिकॉर्ड करता है। इस स्पेक्ट्रम से रासायनिक संरचना के बारे में जानकारी प्राप्त की जाती है।
  7. रासायनिक शिफ्ट:
    • विभिन्न प्रकार के परमाणु कोर अलग-अलग आवृत्तियों पर रेज़ोनेंस करते हैं, जिसे रासायनिक शिफ्ट कहते हैं। यह रासायनिक शिफ्ट विभिन्न रासायनिक वातावरण को दर्शाता है।
  8. डेटा विश्लेषण:
    • अंतिम चरण में, प्राप्त स्पेक्ट्रम का विश्लेषण करके रासायनिक संरचना, परमाणुओं की संख्या, और उनके आस-पास के वातावरण के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की जाती है।

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी का यह क्रमबद्ध वर्णन आवृत्तियों की भूमिका को समझाने में सहायक होगा और यह दिखाएगा कि कैसे ये आवृत्तियाँ रासायनिक संरचना के विश्लेषण में महत्वपूर्ण होती हैं।

उदाहरण और डेटा: एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी

उदाहरण:

मान लीजिए हमें एथेनॉल (C2H5OH) का एनएमआर स्पेक्ट्रम प्राप्त करना है।

  1. प्रारंभिक तैयारी:
    • नमूने को एनएमआर ट्यूब में रखा जाता है।
    • ट्यूब को एनएमआर स्पेक्ट्रोमीटर में डाला जाता है।
  2. चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगें:
    • चुंबकीय क्षेत्र की शक्ति सेट की जाती है।
    • रेडियो तरंगें 60 MHz से 1000 MHz की सीमा में लागू की जाती हैं।
  3. डेटा संग्रहण:
    • विभिन्न आवृत्तियों पर मापा गया रेज़ोनेंस स्पेक्ट्रम रिकॉर्ड किया जाता है।

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

डेटा और टेबल:

रासायनिक शिफ्ट (δ) प्रोटॉन (H) का प्रकार रासायनिक पर्यावरण
1.2 ppm CH3 मेथिल समूह
3.7 ppm CH2 मेथिलीन समूह
4.8 ppm OH हाइड्रॉक्सिल समूह

ग्राफ:

एनएमआर स्पेक्ट्रम के लिए एक साधारण ग्राफ:

X-अक्ष: रासायनिक शिफ्ट (δ) [ppm]
Y-अक्ष: सिग्नल इंटेंसिटी

|                                                *
|                                                * OH (4.8 ppm)
|                              *
|                              * CH2 (3.7 ppm)
|
|            *
|            * CH3 (1.2 ppm)
|
——-|—————————————————>
0            1              2            3           4              5                [ppm]

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

विवरण:

  • CH3 समूह: 1.2 ppm पर सिग्नल, जो तीन प्रोटॉनों का प्रतिनिधित्व करता है।
  • CH2 समूह: 3.7 ppm पर सिग्नल, जो दो प्रोटॉनों का प्रतिनिधित्व करता है।
  • OH समूह: 4.8 ppm पर सिग्नल, जो एक प्रोटॉन का प्रतिनिधित्व करता है।

यह उदाहरण दिखाता है कि कैसे एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी का उपयोग करके एथेनॉल के विभिन्न प्रोटॉन समूहों की पहचान की जा सकती है और उनके रासायनिक पर्यावरण को समझा जा सकता है।

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी: दैनिक जीवन के उदाहरण

1. एस्पिरिन (Aspirin)

एस्पिरिन का रासायनिक नाम: एसीटाइलसैलिसिलिक एसिड (C9H8O4)

रासायनिक शिफ्ट और डेटा:

रासायनिक शिफ्ट (δ) प्रोटॉन (H) का प्रकार रासायनिक पर्यावरण
2.3 ppm CH3 मेथिल समूह
7.2-7.8 ppm C-H (आरोमेटिक) बेंज़ीन रिंग
11.0 ppm OH कार्बोक्सिलिक एसिड समूह

ग्राफ:

X-अक्ष: रासायनिक शिफ्ट (δ) [ppm]
Y-अक्ष: सिग्नल इंटेंसिटी

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

2. एसीटोन (Acetone)

एसीटोन का रासायनिक नाम: प्रोपेन-2-वन (C3H6O)

रासायनिक शिफ्ट और डेटा:

रासायमिक शिफ्ट (δ) प्रोटॉन (H) का प्रकार रासायनिक पर्यावरण
2.1 ppm CH3 मेथिल समूह

ग्राफ:

X-अक्ष: रासायनिक शिफ्ट (δ) [ppm]
Y-अक्ष: सिग्नल इंटेंसिटी

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

3. ईथेनॉल (Ethanol)

ईथेनॉल का रासायनिक नाम: इथाइल अल्कोहल (C2H5OH)

रासायनिक शिफ्ट और डेटा:

रासायनिक शिफ्ट (δ) प्रोटॉन (H) का प्रकार रासायनिक पर्यावरण
1.2 ppm CH3 मेथिल समूह
3.7 ppm CH2 मेथिलीन समूह
4.8 ppm OH हाइड्रॉक्सिल समूह

ग्राफ:

X-अक्ष: रासायमिक शिफ्ट (δ) [ppm]
Y-अक्ष: सिग्नल इंटेंसिटी

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

4. ग्लूकोज (Glucose)

ग्लूकोज का रासायनिक नाम: C6H12O6

रासायमिक शिफ्ट और डेटा:

रासायमिक शिफ्ट (δ) प्रोटॉन (H) का प्रकार रासायनिक पर्यावरण
3.2-4.0 ppm CH, CH2 हाइड्रॉक्सिल समूहों के पास
4.5-5.5 ppm OH हाइड्रॉक्सिल समूह

ग्राफ:

X-अक्ष: रासायमिक शिफ्ट (δ) [ppm]
Y-अक्ष: सिग्नल इंटेंसिटी

 

the frequency involved in nmr spectroscopy lie in

ये उदाहरण एनएमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी के उपयोग को दैनिक जीवन के रसायनों के विश्लेषण में दर्शाते हैं। प्रत्येक पदार्थ का विशिष्ट स्पेक्ट्रम होता है, जो उसकी रासायनिक संरचना को पहचानने और समझने में मदद करता है।

addition reactions are undergone by 2 year

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top