Explore Chemistry Now

chemexplorers

short note on hyperconjugation

short note on hyperconjugation.हाइपरकन्जुगेशन एक रसायन विज्ञान की घटना है जिसमें इलेक्ट्रॉनों का विस्थापन कार्बन-हाइड्रोजन बंधन के टूटने से होता है, जिससे कार्बनिक यौगिकों की स्थिरता बढ़ती है। इस लेख में हम हाइपरकन्जुगेशन के तंत्र, इसके विभिन्न नामों और रसायन विज्ञान की कई घटनाओं में इसके अनुप्रयोग को विस्तार से समझाएंगे।

short note on hyperconjugation

हाइपरकन्जुगेशन एक घटना है जिसमें कार्बन-कार्बन बंधन के माध्यम से इलेक्ट्रॉनों का संचार होता है। यह इलेक्ट्रॉन स्थानांतरण कार्बन-हाइड्रोजन बंधन के टूटने के कारण होता है, जो इसके निकट स्थित अलाइलिक या विन्यलिक कार्बन पर होता है। इसे एक सामान्य रूप से निगेटिव इफेक्ट के रूप में जाना जाता है।

इंडेक्स

  1. हाइपरकन्जुगेशन टर्म का अर्थ
  2. हाइपरकन्जुगेशन के लिए आवश्यक शर्तें
  3. हाइपरकन्जुगेशन की घटना कैसे होती है? (हाइपरकन्जुगेशन का तंत्र)
  4. हाइपरकन्जुगेशन कार्बनिक प्रजातियों को स्थायित्व क्यों देता है?
  5. हाइपरकन्जुगेशन के तीन अलग-अलग नाम
    • 5(A) बेकर-नाथन इफेक्ट
    • 5(B) नो बांड रेजोनेंस
    • 5(C) σ-π संयुग्मन
  6. रसायन विज्ञान की कई घटनाओं को समझने के लिए हाइपरकन्जुगेशन के विचार का अनुप्रयोग
    • 6(A) विभिन्न एल्कीन हाइड्रोकार्बन की सापेक्षिक स्थिरता को समझना
    • 6(B) विभिन्न कार्बोकैटियन इंटरमीडिएट की सापेक्ष स्थिरता को समझना
    • 6(C) विभिन्न फ्री रैडिकल इंटरमीडिएट की सापेक्ष स्थिरता को समझना
    • 6(D) सायटज़ेफ़ नियम को समझना
    • 6(E) एंटी-मार्कोव्निकोव जोड़ को समझना, जिसे पेरोक्साइड इफेक्ट भी कहा जाता है

short note on hyperconjugation

यह एक घटना है जिसके द्वारा इलेक्ट्रॉनों का विस्थापन एक विशिष्ट प्रकार की कार्बनिक प्रजातियों के अंदर होता है। इस तरह की घटना को प्रस्तुत करने वाली प्रजातियाँ हो सकती हैं:

  • एक कार्बनिक अणु (जैसे प्रोपेन)
  • एक कार्बोकैटियन (जैसे टर्शियरी ब्यूटिल कार्बोकैटियन)
  • एक फ्री रैडिकल (जैसे टर्शियरी ब्यूटिल फ्री रैडिकल)

इस इलेक्ट्रॉन विस्थापन के कारण प्रजातियाँ अधिक स्थिर और कम प्रतिक्रियाशील हो जाती हैं।

हाइपरकन्जुगेशन की परिभाषा:

“अल्किल समूह के हाइड्रोजन द्वारा इलेक्ट्रॉनों की रिहाई जो असंतृप्त प्रणाली के α-कार्बन परमाणु से जुड़ी होती है, को हाइपरकन्जुगेशन कहा जाता है।”

उपरोक्त परिभाषा को समझने के लिए, निम्नलिखित तीन टर्म्स की जानकारी की आवश्यकता है:

  1. असंतृप्त प्रणाली
  2. α-कार्बन
  3. α-हाइड्रोजन

असंतृप्त प्रणाली:

सिस्टम में ऐसे कार्बन एटम शामिल हैं जो:

  • इलेक्ट्रॉन की कमी हो,
  • इलेक्ट्रॉन रिच हो,
  • उस पर एकल (ओड) इलेक्ट्रॉन हो।

निम्नलिखित उदाहरण हैं:

  • एक सिस्टम जिसमें कार्बन-कार्बन डबल बांड होता है (जैसे सभी एल्कीन यौगिक)
  • एक सिस्टम जिसमें पॉजिटिव चार्ज्ड कार्बन होता है (जैसे सभी कार्बोकैटियन इंटरमीडिएट)
  • एक सिस्टम जिसमें कार्बन पर एक ओड इलेक्ट्रॉन होता है (जैसे सभी फ्री रैडिकल इंटरमीडिएट)

α-कार्बन:

पहले (या तुरंत) कार्बन एटम को असंतृप्त प्रणाली के साथ जोड़ा जाता है जिसे α-कार्बन नाम दिया गया है।

α-हाइड्रोजन:

हाइड्रोजन एटम जिसे α-कार्बन के साथ बंधन में जोड़ा जाता है, उसे α-हाइड्रोजन कहा जाता है।

short note on hyperconjugation

  1. इस घटना में, α-कार्बन और α-हाइड्रोजन के बीच स्थित σ-बॉन्ड का इलेक्ट्रॉन पेयर α-हाइड्रोजन से जुड़ा हुआ होता है।
  2. इसका परिणाम यह होगा कि α-कार्बन और α-हाइड्रोजन के बीच कोई बंधन नहीं रहता।
  3. इससे संबंधित परमाणुओं पर यूनिट पॉजिटिव और यूनिट नेगेटिव चार्ज का विकास होता है।
  4. रेजोनेंस की घटना की तरह, इलेक्ट्रॉन पेयर और चार्ज का विस्तार होता है, जिससे स्पीशीज के सटे हुए एटम इंटरमीडिएट स्ट्रक्चर देते हैं। इसे “हाइपरकन्जुगेशन स्ट्रक्चर” कहा जाता है।

जितने ज्यादा हाइपरकन्जुगेशन स्ट्रक्चर होंगे, उतना ही इलेक्ट्रॉनों का डीलोकलाइजेशन अधिक होगा, और स्पीशीज की स्थिरता बढ़ेगी।

हाइपरकन्जुगेशन, कार्बनिक स्पीशीज को स्थायित्व क्यों देता है?

हाइपरकन्जुगेशन की घटना से गुजरने वाली स्पीशीज हमेशा स्थिरता प्राप्त करती है। यह निम्नलिखित कारणों से हो सकता है:

  1. विभिन्न एल्कीन: हाइपरकन्जुगेशन डबल बॉन्ड के बीच इलेक्ट्रॉन घनत्व को कम करता है, जिससे एल्कीन की प्रतिक्रियाशीलता कम हो जाती है और स्थिरता बढ़ती है।
  2. विभिन्न कार्बोकैटियन: हाइपरकन्जुगेशन पॉजिटिव चार्ज की तीव्रता को कम करता है, जिससे कार्बोकैटियन स्थिर होता है।
  3. विभिन्न फ्री रैडिकल: हाइपरकन्जुगेशन ओड इलेक्ट्रॉन के फैलाव का कारण बनता है, जिससे फ्री रैडिकल स्थिर होता है।

हाइपरकन्जुगेशन के तीन अलग-अलग नाम

  1. बेकर-नाथन इफेक्ट
  2. नो बांड रेजोनेंस
  3. σ-π संयुग्मन

रसायन विज्ञान की कई घटनाओं को समझने के लिए हाइपरकन्जुगेशन के विचार का अनुप्रयोग

हाइपरकन्जुगेशन की अवधारणा को लागू करने से, रसायन विज्ञान की कई घटनाओं को ठीक से समझा जा सकता है। ये घटनाएं हैं:

  1. विभिन्न एल्कीन हाइड्रोकार्बन की सापेक्षिक स्थिरता
  2. विभिन्न कार्बोकैटियन इंटरमीडिएट की सापेक्ष स्थिरता
  3. विभिन्न फ्री रैडिकल इंटरमीडिएट की सापेक्ष स्थिरता
  4. सायटज़ेफ़ नियम की व्याख्या
  5. एंटी-मार्कोव्निकोव जोड़ की व्याख्या (जिसे पेरोक्साइड इफेक्ट भी कहा जाता है)

निष्कर्ष

हाइपरकन्जुगेशन एक महत्वपूर्ण अवधारणा है जो कार्बनिक रसायन विज्ञान में कई महत्वपूर्ण घटनाओं को समझने में मदद करती है। यह इलेक्ट्रॉनों के विस्थापन और चार्ज के फैलाव के माध्यम से स्पीशीज की स्थिरता को बढ़ाती है, जिससे उनकी प्रतिक्रियाशीलता कम होती है।

Effective Nuclear Charge के 5 शक्तिशाली उदाहरण: Slater’s Rules के साथ

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top