Explore Chemistry Now

chemexplorers

soil sampling and determination of soil ph practical 2024 useful

soil sampling and determination of soil ph practical.मिट्टी के नमूने लेना और मिट्टी के पीएच का निर्धारण करना एक महत्वपूर्ण व्यावहारिक प्रक्रिया है जो किसानों और वैज्ञानिकों को मिट्टी की गुणवत्ता और उपज क्षमता को समझने में मदद करता है।

इस प्रक्रिया में मिट्टी के विभिन्न स्थानों से नमूने एकत्र करना और प्रयोगशाला में पीएच परीक्षण करना शामिल है, जिससे मिट्टी की अम्लता या क्षारीयता का पता चलता है। सही पीएच संतुलन पौधों की वृद्धि और पोषक तत्वों की उपलब्धता के लिए आवश्यक है।

soil sampling and determination of soil ph practical

मृदा नमूनाकरण और मृदा पीएच का निर्धारण: पूर्ण विधि और प्रक्रिया

मृदा नमूनाकरण और मृदा पीएच का निर्धारण कृषि विज्ञान और जैविक खेती में एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। यह किसानों को उनकी मिट्टी की स्वास्थ्य स्थिति और पोषक तत्वों की उपलब्धता के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। इस प्रक्रिया को सही ढंग से करने के लिए निम्नलिखित कदम उठाए जाते हैं:

मृदा नमूनाकरण (Soil Sampling)

मृदा नमूनाकरण की प्रक्रिया को सही तरीके से करना अत्यंत आवश्यक है ताकि मृदा की सटीक स्थिति और उसकी पोषक तत्वों की जानकारी प्राप्त की जा सके। निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

1. नमूनाकरण के लिए उपकरण:

  • मिट्टी का कुदाल (Soil Auger) या खुदाई उपकरण
  • बाल्टी या प्लास्टिक का कंटेनर
  • लेबलिंग टैग और पेन
  • नमूना बैग (Soil Sample Bags)

2. नमूनाकरण क्षेत्र का चयन:

  • खेत को समान क्षेत्रों में विभाजित करें। प्रत्येक क्षेत्र को अलग-अलग नमूनों के रूप में लें।
  • अलग-अलग क्षेत्रों का चयन करें जहां मिट्टी की बनावट, रंग, और नमी में भिन्नता हो सकती है।
  • नमूनों को खेत के किनारों, उथले या गहरे स्थानों से न लें।

soil sampling and determination of soil ph practical

3. नमूनाकरण की विधि:

  • हर क्षेत्र में 10-15 स्थानों से नमूने लें। ये स्थान ज़िग-ज़ैग पैटर्न में होने चाहिए ताकि पूरे क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया जा सके।
  • प्रत्येक स्थान पर, लगभग 15-20 सेंटीमीटर गहरी मिट्टी खोदें और उसे बाल्टी में डालें। अगर खेत में फसल है, तो उथली मिट्टी (0-15 सेंटीमीटर) और गहरी मिट्टी (15-30 सेंटीमीटर) के नमूने अलग-अलग लें।
  • सभी नमूनों को बाल्टी में अच्छी तरह मिलाएं और उसमें से 500 ग्राम का मिश्रित नमूना लें।

4. नमूनों का लेबलिंग और भंडारण:

  • नमूनों को प्लास्टिक के बैग में डालें और उन पर क्षेत्र का नाम, नमूना संख्या, तारीख, और अन्य आवश्यक जानकारी लिखें।
  • नमूनों को ठंडी और सूखी जगह पर रखें जब तक कि उन्हें प्रयोगशाला में भेजा न जाए।

मृदा पीएच का निर्धारण (Determination of Soil pH)

मृदा पीएच मिट्टी की अम्लता या क्षारीयता को मापने का एक तरीका है। इसे मृदा पीएच मीटर या पीएच स्ट्रिप्स की मदद से मापा जा सकता है। निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

soil sampling and determination of soil ph practical

1. उपकरण और सामग्री:

  • मृदा पीएच मीटर या पीएच स्ट्रिप्स
  • डिस्टिल्ड वाटर
  • मिक्सिंग कप और स्टिरर
  • फिल्टर पेपर (अगर पीएच मीटर का उपयोग कर रहे हैं)
  • नमूना मिट्टी

2. नमूना तैयारी:

  • 10 ग्राम मिट्टी का नमूना लें और इसे मिक्सिंग कप में डालें।
  • उसमें 20 मि.ली. डिस्टिल्ड वाटर मिलाएं। (नमूना:पानी का अनुपात 1:2)
  • मिश्रण को अच्छी तरह से हिलाएं और इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें, बीच-बीच में हिलाते रहें।

soil sampling and determination of soil ph practical

3. मृदा पीएच मापना:

पीएच मीटर का उपयोग:

  • पीएच मीटर को डिस्टिल्ड वाटर में धोकर साफ करें।
  • पीएच मीटर के इलेक्ट्रोड को मिट्टी-पानी मिश्रण में डालें और माप लें।
  • पीएच मीटर पर दिखाए गए पीएच मूल्य को नोट करें।
  • हर माप के बाद पीएच मीटर को डिस्टिल्ड वाटर से साफ करें।

soil sampling and determination of soil ph practical

पीएच स्ट्रिप्स का उपयोग:

  • पीएच स्ट्रिप को मिट्टी-पानी मिश्रण में डुबोएं और तुरंत बाहर निकालें।
  • स्ट्रिप का रंग परिवर्तन देखें और उसे पीएच रंग चार्ट से मिलाएं।
  • पीएच मूल्य को नोट करें।

soil sampling and determination of soil ph practical

निष्कर्ष

मृदा नमूनाकरण और मृदा पीएच का निर्धारण कृषि में अत्यंत महत्वपूर्ण प्रक्रियाएँ हैं। ये प्रक्रिया किसान को मिट्टी की वर्तमान स्थिति और उसमें पोषक तत्वों की उपलब्धता के बारे में सटीक जानकारी प्रदान करती है। सही नमूनाकरण और मृदा पीएच निर्धारण तकनीक का पालन करके, किसान अपनी मिट्टी की गुणवत्ता को सुधार सकते हैं और फसल उत्पादन को बढ़ा सकते हैं। यह प्रक्रियाएँ न केवल मृदा की स्थिति को समझने में मदद करती हैं बल्कि सतत कृषि प्रथाओं को भी प्रोत्साहित करती हैं।

soil sampling and determination of soil ph practical

BSc 1 Year Botany project

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top